Computer Program क्या है | Programming Language in hindi

इस लेख मे हम कम्प्युटर प्रोग्राम के बारे मे जानेंगे और Computer Program के Examples भी देखेंगे । आज आप
इस लेख को पढ़ने के बाद अच्छे से समझ जाएंगे की Computer मे program क्या है और कितने प्रकार के होते है? 

कम्प्युटर मे प्रोग्राम क्या है – What is program in computer

दोस्तो हमे कंप्यूटर से कोई भी काम कराने के लिए कंप्यूटर को कुछ निर्देश(Command) देने होते हैं । यह निर्देश उसी भाषा(Language) में दिए जाते हैं जिस भाषा को कंप्यूटर समझता है। यह निर्देश जो हम इंसान लिखते इसी को हम कम्प्युटर मे प्रोग्राम बोलते है । 
Computer software program – कम्प्युटर से काम कारने के लिय जो निर्देशों या प्रोग्राम लिखते है इन्ही के समूह को ही सॉफ्टवेयर कहते हैं जैसे एक कार बिना पेट्रोल की होती है वैसे ही कंप्यूटर बिना सॉफ्टवेयर के होता है । यदि किसी कंप्यूटर का हार्डवेयर उसका ढांचा है तो सॉफ्टवेयर उसकी आत्मा है। कंप्यूटर के प्रोग्राम को ही उसका सॉफ्टवेयर प्रोग्राम कहते हैं।

कम्प्युटर प्रोग्राम समझने के बाद अब समझते है Programming Language के बारे मे की जिसमे हम Computer के लिय प्रोग्राम लिखते है उस प्रोग्राममिंग के बारे मे 

प्रोग्राममिंग लैड्ग्वेज क्या है – What is computer programming language 

कंप्यूटर के हर प्रोग्राम के लिए एक विशेष भाषा(Language) की आवश्यकता होती है जिसे Programming Language कहते है। कंप्यूटर के सभी कार्य द्विआधारीप्रणाली द्वारा होते हैं इसलिए कंप्यूटर के हर निर्देश को 0 और 1 में डालना पड़ता है। कंप्यूटर के प्रोग्राम के लिए प्रयोग होने वाली भाषाएं हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं से अलग होती है । कंप्यूटर के हर मॉडल के लिए उसकी एक विशेष भाषा होती है । 
कम्प्युटर की कितनी भाषाए होती है? 

कंप्यूटर की भाषाएं तीन प्रकार की होती है। 
1. निम्नस्तरीय भाषाएं Low level language
2.मध्यस्तरीय भाषाए Assembly level language 
3. उच्चस्तरीय भाषाएं High level language

Low level Language क्या है?

इस language मे हम कम्प्युटर को Binary के रूप मे command देते ही यानि हम computer program 0 और 1 के रूप मे लिखते है । इस language को मशीन आसानी से समझ लेता है । इस भाषा मे प्रोग्राम लिखना बहुत कठिन होता है । इस तरह के लैड्ग्वेज को हम लो लेवेल लैड्ग्वेज कहते है । 

Assembly language क्या है ?

इस समूह के भाषा में कंप्यूटर के कार्यकलापों के लिए कुछ विशेष निर्देश होते हैं। जैसे जोड़ने की क्रिया के लिए ADC और शिफ्ट राइट लॉजिक के लिए SRL प्रयोग में लाया जाता है । इन भाषाओं का प्रयोग कंप्यूटर के आरंभ में किया जाता था । आज कल इनका प्रयोग लगभग ना के बराबर हो गया है ।

High level language क्या है?

इन भाषाओं में ना कुछ सीमित शब्द संख्याएं और चिन्ह प्रयोग में लाए जाते हैं। इन भाषाओं के प्रयोग के कुछ निश्चित नियम हैं । इन भाषाओं को कुछ दिन प्रयास करने के बाद समझा जा सकता है । उच्च स्तरीय भाषाएं निम्नलिखित हैं
1. Basic
2. COBOL
3. Fortran
4. Algol
5. Pascal
6. Logo

Basic Language (बेसिक कम्प्युटर भाषा) क्या है?

बेसिक शब्द का पूरा रूप है बिग्नर्स ऑल पर्पस सिंबॉलिक इंस्ट्रक्शन कोड इस भाषा का विकास सन 1965 में डॉर्टमाउथ कॉलेज में किया गया था यह एक सवाल भाषा है और कंप्यूटर का प्रोग्राम बनाने वाले विद्यार्थियों को आरंभ में सिखाई जाती है। यह विज्ञान और गणित संबंधी निर्देशों के लिए प्रयोग की जाती है। अधिकतर माइक्रोकंप्यूटर इस भाषा का प्रयोग करते हैं।
इस भाषा में अंग्रेजी भाषा के साधारण शब्द जैसे इनपुट(Input), रीड(Read), प्रिंट(Print), if इत्यादि का प्रयोग किया जाता है। इनके साथ-साथ गणितीय पद भी प्रयोग होते हैं । यह बड़ी लचीली भाषा है और कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के लिए अधिक उपयोगी है।
Cobol कोबोल –
को बोल शब्द का विस्तृत रूप है कॉमन बिजनेस ओरिएंटेड लैंग्वेज Common Business Oriented Language। इस भाषा का सामान्यतः व्यापारिक कार्यों में प्रयोग किया जाता है। इस शब्द का विकास सन 1960 में हुआ था । इस भाषा अंग्रेजी शब्द का प्रयोग करती है । वह कोबोल भाषा का एक कथन ही कंप्यूटर से दर्जनों कार्य करा सकता है । इस भाषा का प्रोग्राम तैयार करना काफी सरल काम है। इस भाषा के प्रोग्राम निम्न प्रकार के होते हैं ।
ऐड प्रॉफिट टू कास्ट (Add Profit to cast) इस भाषा के कथन और निर्देश काफी स्पष्ट होते हैं । यह भाषा कंप्यूटर के किसी भी मॉडल के साथ प्रयोग की जा सकती है।
Fortran – इस भाषा का पूरा नाम फार्मूला ट्रांसलेशन Formula Translation है। इस भाषा का मुख्य रूप विज्ञान और इंजीनियरिंग की समस्याओं के लिए कंप्यूटर प्रोग्राम बनाने में प्रयोग किया जाता है । इसका विकास आईबीएम ने सन 1957 में किया था । इस भाषा में कोई भी प्रोग्राम समीकरणों के रूप में अंग्रेजी अक्षरों और बीज गणित के चिन्हों का प्रयोग में किया जाता है । इस भाषा का उपयोग अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया जाता है। इस भाषा के कुछ निर्देश read, Print, Stop यादी होते हैं।
Algol – यह भाषा का विकास सन 1958 में किया गया था और इसका नाम एलगॉल-58 रखा गया था । आजकल एलगोल-68 प्रयोग की जाती है जो अति आधुनिक भाषा है । अमेरिका की तुलना में एलगॉल का प्रयोग यूरोप में अधिक होता है । यह बहुत ही नपी तुली और भी विशुद्ध भाषा है जो संख्यात्मक और विज्ञान संबंधित संगणनाओ के लिए अत्यंत उपयोगी सिद्धि हुई है । इस भाषा को मुखतः रैखिक प्रोग्रामिंग के लिए प्रयोग किया जाता है।
Pascal – यह भाषा का नाम महान गणितज्ञ ब्लेज पास्कल के नाम पर रखा गया है। यह एक उच्च स्तरीय भाषा है और एलगॉल परिवार से संबंध रखती है । यह काफी सरल भाषा है इसलिए आजकल अधिक लोकप्रिय होती जा रही है । यह बहुउद्देशीय भाषा के रूप में जानी जाती हैं।
Logo – यह भाषा का विकास मुख्यत बच्चों के लिए किया गया है । इस भाषा की मदद से बच्चों को ज्यामिति की आकृतियों के लिए प्रोग्राम तैयार करना सिखाया जाता है ।
प्रत्येक भाषा के नियम होते हैं। इन नियमों के अनुसार ही चर और अचर राशियों को लिखा जाता है । किसी भी भाषा में प्रोग्राम तैयार करना ठीक उसी प्रकार सीखना पड़ता है। जैसे हम कोई नई भाषा सीखते हैं । किसी भाषा के तैयार किए गए प्रोग्राम ही कंप्यूटर का सॉफ्टवेयर कहलाते हैं जो उसकी भौतिक संरचनाओं में भिन्न होता है।

Leave a Comment